Quote of The Day

You cannot believe in God until you believe in yourself-----------
Swami Vivekananda


NO CONFIDENCE MOTION IN LOK SABHA IN HINDI लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव INDIAN CONSTITUTION FOR UPSC

संविधान के भाग 5 के अनुच्छेद 75 में कहा गया है कि मंत्री परिषद लोकसभा के प्रति सामूहिक रूप से उत्तरदाई होगी इसका अभिप्राय है मंत्रिपरिषद तभी तक है जब तक कि उसे सदन में बहुमत प्राप्त है दो में लोकसभा मंत्रिपरिषद को अविश्वास प्रस्ताव पारित कर हटा सकती है प्रस्ताव के समर्थन में 50 सदस्यों की सहमति अनिवार्य है
यह केवल लोकसभा में ही लाया जा सकता है
संविधान के अनुच्छेद 118 में कहा गया है की संसद के प्रत्येक सदन को अपने लिए नियम बनाने का अधिकार है
लोकसभा की नियमावली के नियम 198 के तहत अविश्वास प्रस्ताव लाने का प्रावधान है

198 -1 (क) स्पीकर के बुलाने पर प्रस्ताव रखने की अनुमति मांगनी होती है
198 -1(ख) सुबह 10:00 बजे तक लिखित में महासचिव को सूचना देनी होती है. 10:00 बजे के बाद की सूचना को अगले दिन की माना जाएगा
198-2 अविश्वास लाने के लिए कम से कम 50 का समर्थन होना अनिवार्य है
198-3 लोकसभा अध्यक्ष कोई एक दिन या एक से ज्यादा दिन या 1 दिन का कोई हिस्सा निर्धारित कर सकता है यह 10 दिन के अंदर करना अनिवार्य है
इस दौरान कई मुद्दों पर बहस होती है
198 -4 अंतिम दिन मतदान की घोषणा अध्यक्ष द्वारा की जाती है सरकार को अपना बहुमत साबित करना होता है बहुमत साबित नहीं कर पाने पर सरकार को इस्तीफा देना पड़ता है
198-5 भाषणों की समय सीमा अध्यक्ष द्वारा तय की जाती है

केवल एक लाइन द्वारा प्रस्ताव लाया जाता है की मंत्रिपरिषद में अविश्वास व्यक्त करता है

अब तक कुल 26 बार अविश्वास प्रस्ताव लाया जा चुका है

कुछ महत्वपूर्ण बातें

1) इंदिरा गांधी को कुल 15 बार अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ा.
2)पहला अविश्वास प्रस्ताव जे बी कृपलानी द्वारा अगस्त 1963 में जवाहरलाल नेहरू सरकार के खिलाफ लाया गया
3) ज्योतिर्मय बसु ने अधिकतम अविश्वास प्रस्ताव पेश किया
4)अटल बिहारी वाजपेई ने दो बार अविश्वास प्रस्ताव पेश किया
5)मोरारजी देसाई की सरकार के खिलाफ दो बार अविश्वास प्रस्ताव पेश किया एक बार तो वह बच गए लेकिन 1978 मैं बहुमत होने की स्थिति में मत विभाजन से पहले इस्तीफा दिया
6)1979 मैं चौधरी चरण सिंह को राष्ट्रपति को त्यागपत्र देना पड़ा
7)1989 मैं राष्ट्रीय मोर्चा सरकार के खिलाफ बी पी सिंह को इस्तीफा देना पड़ा
8)1997 मैं एच डी देवगौड़ा को इस्तीफा देना पड़ा
9)1998 में इंद्र कुमार गुजराल को इस्तीफा देना पड़ा
10)2009 में अमेरिका के 7 परमाणु समझौते के दौरान मनमोहन सिंह के खिलाफ लाया गया बहुत कम अंतर से अपनी सरकार बचा पाए

Article 75 of Part 5 of the Constitution states that the Council of Ministers will be collectively liable to the Lok Sabha, which means that the Council of Ministers is only till it receives majority in the House, in two, the Lok Sabha Council can remove the non-confidence motion by passing the Council. Consent of 50 members is mandatory in support of the proposal It can only be brought in the Lok Sabha Article 118 of the Constitution states that every House of Parliament has the right to make rules for itself There is a provision to bring a no-confidence motion under Rule 198 of Loksabha Rules 198-1 (a) The speaker has to ask permission for the proposal on the call 198 -1 (b) 10:00 am in the written up to the Secretary-General has to report. Information after 10:00 will be considered the next day It is compulsory to have at least 50 support to bring a distrust of 198-2 The 198-3 Lok Sabha Speaker can determine any part of one day or more than one day or 1 day, it is mandatory to do this within 10 days There are many issues during this time. 1984, the final day of voting is announced by the Speaker, the government has to prove its majority, the government has to resign if it can not prove the majority. The deadline for the 1985 speeches is decided by the Speaker The proposal is brought out by only one line that expresses unbelief in the Council of Ministers Until now, no confidence motion has been received 26 times Some important things 1) Indira Gandhi had to face a non-confidence motion a total of 15 times. 2) The first non-confidence motion was brought by JB Kripalani against the Jawaharlal Nehru government in August 1963. 3) Jyotirmoy Basu presented the maximum non-confidence motion 4) Atal Bihari Vajpayee presented the motion of no confidence twice 5) Morarji presented the no-confidence motion twice against the government of Desai, once he survived, but in 1978 I had a majority, resigned before partition. 6) In 1979, Chaudhary Charan Singh had to resign the President. 7) 1989 I had to resign BP Singh against the National Front government. 8) 1997 I had to resign to HD Deve Gowda 9) Inder Kumar Gujral had to resign in 1998 10) During the American nuclear deal in 2009, Manmohan Singh was saved against his government with very little difference

Latest
Previous
Next Post »